मकर लग्न (makar lagna)

makar lagna-मकर लग्न के जातकों का शारीरिक गठन –

मकर लग्न (makar lagna) में जन्म लेने वाले ब्यक्तियों का निचला अर्ध भाग प्रायः दुबला पतला तथा निर्बल होता है | शरीर लम्बा और गठन कठिन रूप का होता है |

makar lagna-1

मकर लग्न के जातकों का स्वभाव –

आप कफ बात प्रकृति से पीड़ित रहेंगें | आप बड़े उत्साही तथा परिश्रमी होंगें जो भी ब्यक्ति आपका बिगाड़ता है, उससे बदला लेने में आप सर्बदा तत्पर रहेंगें |

आप खुले तौर से अपने विचार प्रकट करने वाले चाहे उससे किसी के दिल पर चोट क्यों न पहुंचे, आप इसकी परबाह नहीं करते |

प्रायः मकर लग्न में जन्म लेने वाले जातकों को अक्सर शक्की मिजाज डरपोंक तथा अभिमानी देखा गया है | आप अपने प्रत्येक कार्य सावधानी तथा विचार पूर्वक करेंगें |

पुण्य कर्म में तत्पर और धार्मिक तथा ईश्वर का डर रखने वाले होंगें | आप अपने आश्रितों से काम लेने में निपुण, अपने काम के यार, दूसरों को ठगने में रूचि रहेगी |

आपकी सतत ऐसी इच्छा रहेगी कि आप अपनी मित्र मण्डली में प्रमुख और सम्मानित हों तथा अपनी ख्याति के लिए सदा प्रयत्नशील रहेंगें |

स्त्री पक्ष से ऐसा जातक प्रायः सदा दुखी रहता है और दुःख भोगता है | किसी अवसर पर आप दानशील भी हो जाया करेंगें |

कन्या जन्म के कुछ विशेष फल

धार्मिक, सत्यप्रिया, विचारशील, मितब्ययी,शत्रु रहित, सुविख्यात और बहु पुत्र वालीं होंगीं |

सावधानी – 

आपको चर्म रोग से सावधान रहना चाहिए तथा कोष्ठ बद्धता से भी बचना चाहिए | ठंडक और शर्दी से शरीर को बचाये रखना मुख्य कर्तब्य होगा | कभी कभी ठेहुने की बीमारी भी आ सताती है | ऐसे जातकों को चित्त विक्षिप्त रोग ( मिलेनकोलिया) ( Melancholia ) से बचने का सदा प्रयत्न करना चाहिए |

नोट – ध्यान रखें यह स्थूल फलादेश है | जब तक किसी व्यक्ति की कुण्डली का सम्पूर्ण निरिक्षण नहीं किया जाता तब तक सही फलादेश नहीं किया जा सकता | सटीक फलादेश जानने के लिए व्यक्ति की जन्म तारीख, जन्म समय और जन्म स्थान सही होना आवश्यक है |

इन्हें भी देखें :-

जानें किस ग्रह के गोचर से क्या लाभ या हानि होगी

आपको कौनसा यन्त्र धारण करना चाहिए

जानें कैसे कराएँ online पूजा

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of