Sale!

एक मुखी रुद्राक्ष

Rs.3,500.00 Rs.3,100.00

1)सिर दर्द.

2)आँखों की समस्या.

3)नीद न आना.

3)सोते समय मुँह से लार गिरना.

4)घबराहट होना.

5) अपच की सिकायत रहना उत्साह की कमी.

6)रीड़ की हड्डी में दर्द रहना.

7)डर लगना.

8)बुखार लगा रहना.

9)दिल से सम्बंधित बीमारियाँ.

10)आत्म चेतना की कमी.

Description

एक मुख वाला रुद्राक्ष साक्षात शिव का स्वरुप है। वह भोग और मोक्षरुपी फल प्रदान करता है। जहाँ रुद्राक्ष की पूजा होती है वहाँ से लक्ष्मी कभी दूर नहीं जाती। उस स्थान के सारे उपद्रव नष्ट हो जाते हैं तथा वहाँ रहने वाले लोगो की सम्पूर्ण कामनायें पूर्ण होतीं हैं। तथा जिन ब्यक्तियों को सिर दर्द, आँखों की समस्या, नीद न आना, सोते समय मुँह से लार गिरना, घबराहट होना,
अपच की सिकायत रहना उत्साह की कमी, रीड़ की हड्डी में दर्द रहना, डर लगना, बुखार लगा रहना, दिल से सम्बंधित बीमारियाँ, तथा आत्म चेतना की कमी का होना उपरोक्त स्थिति में आप एक मुखी रुद्राक्ष या बारह मुखी भी धारण कर सकते हैं आपको अवश्य लाभ होगा। एक मुखी रुद्राक्ष सिंह राशि वालों को धारण करना चाहिए। आप बारह मुखी भी धारण कर सकते हैं।

एक मुखी रुद्राक्ष को सिद्ध करने का मंत्र – ॐ ह्रीं नमः ॥
रुद्राक्ष के फायदे – रुद्राक्ष धारण करने वाले मनुष्य को देखकर भूत  प्रेत पिशाच डाकिनी शाकिनी तथा जो अन्य द्रोहकारी राक्षस होते हैं वे सब डरकर भाग जाते हैं। जो कृत्रिम अभिचार आदि होते हैं वे रुद्राक्ष धारण करने वाले के पास नहीं आते या जिनके ऊपर अभिचार कर्म किया गया हो वे रुद्राक्ष धारण करते ही अभिचार कर्मों से मुक्त हो जाते हैं।