Budh Yantra - बुध यंत्र

Rs.900.00 Rs.700.00

1)अस्थमा सम्बंधी परेशानी होने पर

2)बदहजमी(Indigestion).

3)कान से सम्बंधित रोग.

4)तुतलाना या रुक रुक के बोलने पर.

5)याददाशत कमजोर होने.

6)चर्म रोग से बचने के लिये.

Call to Pandit Rajkumar Dubey (+91 7470 934 089) about this Product.

100% !

Sale!

बुध यंत्र के फायदे

Benefits of budh yantra– जिन ब्यक्तियों को अस्थमा या स्वश्न सम्बंधी परेशानी होने पर, बदहजमी, (Indigestion), कान से सम्बंधित रोग, तुतलाना या रुक रुक के बोलने पर, याददाशत कमजोर होने पर तथा चर्म रोग से बचने के लिये यह यंत्र धारण करना चाहिये।

बुध यंत्र किसे धारण करना चाहिये – (Who should wear Budh yantra)- मिथुन एवं कन्या राशि वालों को, मिथुन तथा कन्या लग्न वालों को, तथा जिनकी बुध की महादशा चल रही हो उनको यह यंत्र धारण करना चाहिये। या जिन व्यक्तियों को अपनी जन्म तारीख जन्म समय मालूम न हो और उनको उपरोक्त समस्याओं में से एक या एक से अधिक कोई भी समस्या हो तो वो व्यक्ति यन्त्र धारण कर सकते हैं |

Construction of budh yantra –बुध यंत्र का निर्माण – बुधवार के दिन बुध की होरा में चंदन, गौलोचन, केशर, तथा दूब के रस की स्याही से अनार की कलम से भोजपत्र पर निर्माण किया जाता है । तत्पश्चात प्राण प्रातिष्ठा कर बुध यंत्र की विधिवत पूजन करने के बाद तांत्रिक मंत्र का जाप फिर हवन किया जाता है |

बुध ग्रह – (budh yantra locket)

बुध ग्रह को शुभ और सुकमार ग्रह माना जाता है | बुध ग्रह बुद्धि का कारक होता है | इस ग्रह से वाणी, गणित, बुद्धि, व्यापर में सफलता, चर्म रोग एवं सुन्दरता का विचार किया जाता है | यदि आपकी कुण्डली में बुध बहुत अच्छा है तो उपरोक्त गुण आप में विद्दमान होंगे और यदि बुध कमजोर होगा तो उपरोक्त समस्याएं उत्पन्न होंगीं |

budh yantra benefits

बुध यंत्र आत्मविश्वास और सकारात्मक ऊर्जा का विकास करता है | विशेषकर विद्द्यार्थियों को बुध यंत्र अवश्य धारण करना चाहिए | यह यंत्र आपके स्ट्रेस को ख़त्म करता है और राइटिंग का कार्य करने वालों के लिए यह यंत्र सबसे श्रेष्ठ रहता है |

यंत्र मंगाने की विधि

जिस व्यक्ति के लिए यन्त्र धारण करना है, उस व्यक्ति का नाम, पिता/पति का नाम तथा गोत्र  (7470 9 3408 9) Whatsapp नम्बर पर भेजें | यन्त्र निर्माण के बाद आपके दिए पते पर पोस्ट ऑफिस द्वारा भेज दिया जायेगा |

ज्योतिष में अनेक ऐसे योग बनते हैं जो व्यक्ति को अनायास ही बिपत्ति में डालते हैं | कहीं आपकी कुण्डली में कोई दुर्योग तो नहीं है | यदि है तो उस योग की पूजन अवश्य कराएँ | पूजन करने के लिये online puja पर किलिक करें |

जानें कैसे कराएँ online पूजा ? 

 

Enter Your Birth Details

Scroll to Top