Mangal Mahadasha Fal-मंगल महादशा फल

मंगल की महादशा का फल

Mangal Mahadasha Fal – साधारण प्रकार से यदि मंगल महादशा का फल देखा जाए तो मंगल की महादशा में जातक शस्त्र, से या शस्त्र बनाने के कारखाने से, या समकालीन राजाओं के झगड़े से अर्थात बिचौलिया बनकर, औषधियों से, चतुराई से, कभी-कभी अनेकानेक क्रूर क्रियाओं द्वारा, चौपाया वाहनों से तथा अनेक मुद्दों से धन की प्राप्ति करता है | स्वास्थ्य में पित्त जनित रुधिर प्रकोप तथा ज्वर आदि से पीड़ित होता है तथा ऐसे जातकों को मूर्छा (बेहोशी) का रोग होता है | राजा से भय, घर में कलह, स्त्री, पुत्र और संबंधियों से वैमनस्यता तथा अन्य कारणों से जातक को कलह युक्त भोजन का दुर्भाग्य होता है |

mangal mahadasha fal
mangal mahadasha fal

पाराशर के मत के अनुसार यदि देखा जाए तो (Mangal Mahadasha Fal) मंगल केंद्र अथवा त्रिकोण का स्वामी हो तो शुभ फल देता है | और यदि छटवें, आठवें, बारहवें, तीसरे, तथा ग्यारहवें भाव का स्वामी हो तो अशुभ फल देता है | जब मंगल शुभ फल देने वाला होता है तो उसकी दशा में पृथ्वी की प्राप्ति, धन का आगमन, मन की शांति, पराक्रम की वृद्धि और धैर्य इत्यादि की प्राप्ति करता है | और यदि पाप फल देने वाला हो तो राजा से भय, कलह, चोर, अग्नि, बंधन तथा ऋण और रोग आदि से कष्ट होता है |

मंगल की महादशा का विशेष फल (Mangal Mahadasha Fal)

मंगल की महादशा का विशेष फल जानने के लिए निम्न बिन्दुओं पर ध्यान देना आवश्यक है | यदि मंगल परम उच्च का हो तो उसकी दशा में जातक को धन, पृथ्वी, राजा से मान सम्मान, भाइयों का सुख, कन्या का जन्म होना, युद्ध और झगड़े में विजय प्राप्त होती है | मंगल यदि उच्च का हो तो राज्य की प्राप्ति, अथवा राजा से धन की प्राप्ति, स्त्री, पुत्र, मित्र, बंधु और वाहन आदि से सुख प्राप्त होता है | तथा सुखमय परदेश में वास करता है | आरोही मंगल की दशा में राज्य से सम्मान, मंत्री इत्यादि पद, धैर्य, आनंद, चौपाया वाहन इत्यादि की प्राप्ति होती है, तथा जीवन के शेष भाग में विशेष रूप से भाग्य उन्नति होती है |

यदि मंगल अवरोही हो तो उसकी दशा में धन तथा पद की हानि होती है | विदेश वास करना पड़ता है, स्वजनों से विरोध, राजा से भय और चोर एवं अग्नि आदि से कष्ट होता है | यदि मंगल नीच राशि गत हो तो उसकी दशा में जातक कुवृत्ति द्वारा स्वजनों की रक्षा करता है | भोजन में असुविधा. वाहन आदि की हानि, बंधुओं का पतन तथा चोर अग्नि एवं राजा से भय होता है |

मूल त्रिकोण राशि में स्थित चंद्रमा की दशा हो तो जातक को स्त्री, पुत्र और भ्राता आदि का सुख होता है | कृषि से लाभ, साहस कर्म से धन की प्राप्ति, एवं युद्ध में यश और विजय पाता है | उत्तम भोजन वस्त्र और आभूषण आदि की प्राप्ति, उत्तम तथा धार्मिक पुस्तकों के सुनने में अभिरुचि होती है | ऐसा मंगल दशम स्थान में हो तो राज्य, शत्रुओं पर विजय, अच्छे वाहन और अलंकार आदि की प्राप्ति होती है |

स्वगृही, मित्र गृही मंगल की महादशा का फल

मंगल स्वगृही हो और उसकी दशा चल रही हो तो इस अवधि में धन, भूमि, अधिकार, सुख, वाहन, भाइयों का सुख और जातक प्रायः दो नामों से प्रख्यात होता है | मंगल अति मित्र ग्रह होने से उसकी दशा में राज्य से, भूमि से, द्रव्य लाभ, देशांतर में ऐश्वर्य लाभ, उत्तम वस्त्र, तथा भोजन आदि की प्राप्ति होती है | यज्ञ आदि क्रियाओं एवं विवाह आदि उत्सव मनाने का अवसर प्राप्त होता है | मंगल मित्र ग्रह में हो और उसकी दशा होने से अपने शत्रुओं से मेल और संधि, भूमि के लिए विवाद और अग्नि से भय होता है | नशाबाज और जुआरियों से विवाद, कृषि की हानि तथा कलयुग जनित पाप एवं दुख आदि का भाजन होता है |

समगृही मंगल की दशा होने से जातक मकान आदि के मरम्मत अथवा बनवाने में धन व्यय करता है | स्त्री, पुत्र, भाई और नौकर आदि से शत्रुता तथा अग्नि एवं राज्य से पीड़ा होती है | शत्रु गृही मंगल की दशा होने से स्त्रियों के साथ विवाद से परेशानी, शोक, अग्नि, राज्य, विष आदि से दुख, गुप्त स्थान, नेत्र और मूत्र स्थली में पीड़ा होती है | अति शत्रु गृही मंगल होने से उसकी दशा में कलह, दुख, स्वजनों से विरोध, अधिकारीयों से भय, स्त्री, पुत्र, मित्र और कुटुंब में किसी के रोगाक्रांत हो जाने से कष्ट होता है परन्तु भूमि एवं धन का सुख होता है |

मंगल यदि उच्च नवांश में हो तो उसकी दशा में मनोभिलाषासिद्धि तथा पुराने विवाद में विजय द्वारा सुख प्राप्त होता है | अधिकारीयों के यहां प्रधानता और कीर्ति भी होती है, पर जातक प्रचंड रूप से दासी गमन करता है | नीच राशि के नवांश में मंगल होने से उसकी दशा में शील रहित, मानसिक व्यथा, मन की व्यग्रता और राजदंड से धन की हानि होती है | जातक भोजन तथा स्त्री प्रसंग की चिंता में निमग्न रहता है |

उच्च राशि में स्थित मंगल की महादशा का फल

लग्न कुंडली में मंगल उच्च राशि में स्थित हो परंतु नवांश में नीच राशि में स्थित हो तो उसकी दशा में पुत्र और भाइयों की मृत्यु या मृत्यु तुल्य कष्ट, राज्य, अग्नि, तथा विष आदि से भय होता है | जन्म कुंडली में नीच राशि में स्थित मंगल यदि उच्च नवांश में हो तो उसकी दशा में कृषि और अन्य प्रकार की उन्नति, भूमि की प्राप्ति, पुत्र, स्त्री, मित्र तथा धन का सुख होता है | यदि किसी उच्च ग्रह के साथ मंगल हो तो स्त्री, पुत्र को पीड़ा और अल्प रूप से भोजन, वस्त्र आदि का सुख होता है | धन आगमन और रोजगार (व्यवसाय) कठिन प्रकार के होते है तथा राज्य सेवा से युत होता है |

पाप ग्रह के साथ यदि मंगल हो तो जातक नित्य पाप कर्म करता है | देवता, ब्राह्मण और कुटुंब आदि की ओर उसका बर्ताव अच्छा नहीं रहता | यदि मंगल के साथ शुभ ग्रह हो तो माता से किंचित सुख प्राप्त होता है | जातक शरीर से रोगी तथा कमजोर होता है | झगड़े में विजय, परदेश वास तथा विवाद होता है |

नीच राशि में स्थित मंगल की महादशा का फल (Mangal Mahadasha Fal)

नीच ग्रह के साथ स्थित मंगल की दशा हो तो स्त्री, पुत्र की हानि, अपराधियों और राजा से भय तथा मन में विकलता होती है | ऐसा जातक दूसरे का अन्न का भोजन करने वाला तथा दास होता है | यदि मंगल शुभ ग्रहों से दृष्ट हो तो उसकी दशा में पृथ्वी और धन का नाश होता है परंतु मंगल के साथ यदि कोई उच्च ग्रह हो तो अत्यंत उत्तम फल होता है | पाप दृष्ट मंगल की दशा हो तो अत्यंत दुख और कष्ट होता है तथा जातक राज्य कोप से अन्य देश में जाकर स्त्री एवं मित्रा आदि के वियोग का दुख भोगता है | वक्री मंगल हो और उसकी दशा हो तो जातक पद से च्युत होता है और उसे वनवास का भय, अपराधियों, अग्नि एवं सर्प से पीड़ा होती है |

जानिए आपको कौनसा यंत्र धारण करना चाहिए ?

जानें कैसे कराएँ ऑनलाइन पूजा ?

श्री मद्भागवत महापूर्ण मूल पाठ

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Call Now Button