कन्या लग्न (kanya lagna)

kanya lagna-कन्या लग्न के जातकों का शारीरिक गठन –

यदि आपका जन्म (kanya lagna) कन्या लग्न में हुआ है तो आपके मुख की कान्ति  से स्त्रीवर्गीय स्वाभाव की झलक नजर आएगी | आपके बाहु और कंधे अपेक्षाकृत  छोटे होंगें |

kanya lagna-1

कन्या लग्न के जातकों का स्वभाव –

किस कार्य को कब करना चाहिए उसको आप विशेष रूप से जानने वाले होंगें | आप सत्यबादी तथा न्याय प्रिय दयालु धैर्यवान और स्नेही होंगें |

आपकी बुद्धि सुन्दर होगी परन्तु ब्यौहार मैं किसी दुसरे के सुख दुःख की उपेक्षा नहीं करेंगें | आप दूसरे से काम लेने मैं जरा भी हिचकिचाहट नहीं रखेंगें |

कार्य करने मैं बड़े सावधान और  चौकस होंगें, आप बिना विचार कुछ भी नहीं करेंगें | आपकी दूसरे के कामों मैं छिन्द्रावेशन करने की बड़ी रूचि रहेगी | आप वातों को गुप्त रखने वाले और अपने भाव को दूसरों पर प्रकट नहीं करने वाले अतः वाणिज्य ब्यवसाय में निपुण होंगें |

आप कार्य करने में बिचारवान और तरीका वाले होंगें | आप मितब्ययी सहनशील और बड़े ही दयालु होंगें | आप काम करने में दक्ष धीर और साहशी होंगें | ऐसे जातकों पर उससे अच्छे लोगों की सहायता और संरक्षता होती है |

ऐसे जातक प्रायः अन्य लोगों के पदार्थ और धन को भोगने वाले होते हैं | परन्तु ऐसे जातक कभी कभी स्त्री विलास रसिक और इन्द्रिय लोलुप और विद्वान लोगों से प्रेम करने वाले होते हैं |

कन्या जन्म के कुछ विशेष फल

बुद्धिमती, सुशीला, मिलनसार, उदार, धार्मिक और दानशीला होती है |

सावधानी

आपको अपनी मानसिक अवस्था पर पूर्ण ध्यान रखना चाहिए | पेट जनित रोग प्रायः दुःखदाई होते हैं | अतएव भोजनादि का प्रबंध उत्तम होना चाहिए |

नोट – ध्यान रखें यह स्थूल फलादेश है | जब तक किसी व्यक्ति की कुण्डली का सम्पूर्ण निरिक्षण नहीं किया जाता तब तक सही फलादेश नहीं किया जा सकता | सटीक फलादेश जानने के लिए व्यक्ति की जन्म तारीख, जन्म समय और जन्म स्थान सही होना आवश्यक है |

इन्हें भी देखें :-

जानिए आपको कौनसा यंत्र धारण करना चाहिए ?

जानें कैसे कराएँ ऑनलाइन पूजा ?

श्री मद्भागवत महापूर्ण मूल पाठ से लाभ

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Call Now Button