व्रत उपवास से अनंत पुण्य और आरोग्य की प्राप्ति

व्रत उपवास से अनंत पुण्य और आरोग्य

पिछले लेख में हमने ” तीन महाव्रत ” इस बारे में संक्षेप में चर्चा की इस लेख में ”  व्रत उपवास से अनंत पुण्य और आरोग्य की प्राप्ति ” इस विषय में संक्षेप में चर्चा करेंगे |

ऐसा कहा जाता है कि अकेला एक उपवास अनेक रोंगो का नाश करता है | नियमतः व्रत- उपवासों से उत्तम स्वस्थ एवं दीर्घ जीवन प्राप्त होता है | हमारे देश के अशिक्षित ग्रामीण भी इस बात को जानते हैं कि अरुचि, अजीर्ण, उदरशूल, मलावरोध, सिरदर्द एवं ज्वर जैसे साधारण रोगों से लेकर असाध्य महा ब्याधियां भी व्रत-उपवासों से निर्मूल हो जातीं हैं | उससे अपूर्व एवं स्थाई आरोग्यता प्राप्त हो जाती है | सभी देशों तथा धर्मों में व्रत-उपवास का महत्वपूर्ण स्थान है | इनके द्वारा मनुष्य की अंतरात्मा शुद्ध होती है | ज्ञानशक्ति, विचारशक्ति, बुद्धि श्रद्धा, मेधा, भक्ति तथा पवित्रता की बढ़ोत्तरी भी होती है |

व्रत-उपवास-से-अनंत-1

आज की तुलना में पिछली सदियों के लोगों का स्वास्थ अच्छा हुआ करता था और वे निरोग रहते थे | आज के अनेक भयंकर रोगों से कोसों दूर थे | रोगों का उनपर आक्रमण नहीं हुआ करता था ऐसी बात नहीं परन्तु वे लोग शास्त्रानुसार आचरण करके स्वस्थ रहने का प्रयास करते थे | इन प्रयासों में वे सफल भी होते थे | हमारे पूर्व मनीषियों द्वारा आयुर्वेद के आधार  पर धार्मिक व्रत अनुष्ठानों का अनुपालन करने का उपाय प्रस्तुत किया गया है | इन व्रतों के पालन द्वारा सामान्य रोगों से मानव मुक्ति प्राप्त कर स्वस्थ जीवन का अनुभव कर मानसिक तनाव से भी छुटकारा पाकर ईश-प्राप्ति का सहज सुलभ साधन भी पा लेता था |

भारत देश के व्रत

हमारे देश में चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से संवत्सर पर्यन्त सभी तिथियों में व्रत का विधान है | तिथि-व्रत, वार-व्रत, मास-व्रत, नक्षत्र-व्रत आदि तो प्रसिद्द हैं ही | यह संभव  नहीं कि प्रत्येक दिन व्रत किया जय तथापि हर माह एक या दो व्रत किए जा सकते हैं | चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से एक सप्ताह प्रतिदिन स्नानादि से निवृत्त होकर सर्वप्रथम कड़वे नीम की नई कपोलों के सेवन से रक्त-शुद्धि और चर्मरोगों से मुक्त होने का साधन बताया गया है |

वैशाख मास की अक्षयतृतीया एक शुभ मुहूर्त है | इस दिन उपवास पूर्वक जल से भर घड़ा, मटकी, फल एवं पंखा दान देने का विधान बताया गया है | मिटटी के संपर्क से जल शुद्ध होता है पाँच तत्व में से दो तत्व जल और पृथ्वी शरीर के लिए पोषक हैं | वैशाख मास में मिटटी का घड़ा दान करना परोपकारी बात मणि जाती है |

कहते हैं चंद्र किरणों से अमृत की वर्षा होती है | मानव की सम्पूर्ण क्रिया मन से संचालित होती है | चन्द्रमा मन का प्रतिनिधिकारक तत्व है | चन्द्रमा और श्रीगणेशजी का अद्वतीय सम्बन्ध है | इसी दृष्टि से मनःशांति हेतु, बुद्धि प्राप्ति हेतु श्रीगणेश चतुर्थी का व्रत रखते हैं | दिनभर उपवास करके शामको श्रीगणेशजी का पूजन कर चंद्रोदय के उपरांत दर्शन कर भोजन करना उपयुक्त बताया गया है | ऐसा करने से उत्पन्न चन्द्रमा का अमृत प्रभाव तथा उसकी शीतलता मन को शांति प्रदान करती है |

धार्मिक व्रत

हमारे धार्मिक व्रतों में एकदशी, प्रदोष और शिवरात्रि, श्रीकृष्णजन्माष्टमी, रामनवमी आदि का भी बड़ा महत्त्व है | वर्ष की सभी एकदशियों में विष्णुशयनी एवं प्रबोधिनी एकादशी तथा महाशिवरात्रि व्रत का अपने आप में बड़ा महत्त्व है | चातुर्मास व्रतों के पालन का आरोग्य प्राप्ति की दृष्टि से अनोखा एवं अद्वतीय महत्त्व मन गया है | यदि हम चातुर्मास में व्रतों का सही पालन करें तो आरोग्य प्राप्ति के साथ-साथ आध्यात्मिक शांति भी प् सकते हैं | चातुर्मासों में बात-पित्त का प्रकोप अधिक रहता है इसलिए सैग-सब्जियों का त्याग करना श्रेस्कर  होता है | इन दिनों एक समय हल्का भोजन करना चाहिए |

धार्मिक व्रतों का उचित पालन शरीर-शुद्धि, आत्मिक और आध्यात्मिक शांति की प्राप्ति में सहायक हैं | इन व्रतों के माध्यम से मनुष्य ईश्वर या अपने इष्टदेव की आराधना और भक्ति भी कर सकते हैं | व्रत हिन्दू संस्कृति एवं धर्म के प्राण बताये गए हैं | नियमतः व्रत उपवासों के पालन से स्वस्थ एवं दीर्घ जीवन की प्राप्ति होती है |

इस लेख में हमने ” व्रत उपवास से अनंत पुण्य और आरोग्य की प्राप्ति  ” इस बारे में संक्षेप में चर्चा की अगले लेख में ” तप और करुणा से भरे हैं महिलाओं के व्रत -त्यौहार ” इस विषय में संक्षेप में चर्चा करेंगे |

इन्हें भी देखें :-

गजकेशरी योग (Gaja Kesari yoga)

सुनफा योग (sunapha yoga)

गुरु गोचर रिपोर्ट (guru gochar )

जानिये आपको कौनसा यन्त्र धारण करना चाहिए

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top